NewsFriday

24×7 News On the Spot

News

ड्राइविंग लाइसेंस पाने के लिए कड़ी मेहनत करनी होगी


आपकी और सड़क पर चलने वाले लोगों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए, सरकार ड्राइविंग लाइसेंस बनाने की प्रक्रिया में बदलाव कर रही है। नए नियम के तहत, ड्राइविंग लाइसेंस जारी करने से पहले आवेदक को एक वीडियो ट्यूटोरियल दिखाया जाएगा। ड्राइविंग टेस्ट से एक महीने पहले दिखाए गए इस वीडियो ट्यूटोरियल में सुरक्षित ड्राइविंग से संबंधित जानकारी दी जाएगी। इसके अलावा, आवेदन के दुर्घटना पीड़ितों के परिवार के साथ भी बातचीत की जाएगी

ताकि वे सड़क पर अपने और दूसरों के जीवन के महत्व को महसूस कर सकें।

सेफ्टी सर्टिफिकेट कोर्स करना होगा अगर ट्रैफिक नियम टूटे हुए हैं

नए नियम नवंबर 2021 से लागू होंगे। नियमों के मुताबिक, अगर आपके पास पहले से ही ड्राइविंग लाइसेंस है और आपने ट्रैफिक नियमों को तोड़ा है, तो आपको सेफ्टी सर्टिफिकेट कोर्स पास करना होगा। इस रिफ्रेशर कोर्स को पूरा करने के लिए आपको 3 महीने का समय मिलेगा। इस कोर्स को पूरा करने वाले ड्राइवर के आधार कार्ड को ड्राइविंग लाइसेंस से जोड़ा जाएगा ताकि उनकी ड्राइविंग को ट्रैक किया जा सके। केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय (MoRTH) अब सुरक्षित ड्राइविंग को लेकर सख्त होने जा रहा है। मंत्रालय बिना हेलमेट के दोपहिया वाहनों को टोल क्रॉस करने वालों को चिह्नित करने और पुलिस से मिलने के लिए एक प्रणाली शुरू करने वाला है। इसमें बाइक सवारों के फुटेज साझा किए जाएंगे और बिना हेलमेट लगाए उनका चालान काटा जाएगा।

सड़क सुरक्षा के प्रति जागरूक करने के लिए नए नियम होंगे

केंद्र सरकार लोगों को सड़क सुरक्षा के प्रति जागरूक करने के लिए ये नियम ला रही है। आंकड़ों के मुताबिक, 2019 में सड़क दुर्घटनाओं में लगभग 44,666 दोपहिया वाहन चालकों की मौत हो गई। 80 प्रतिशत चालकों ने हेलमेट नहीं पहना। रिपोर्ट के अनुसार, नए ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आवेदन करने वालों को ऑनलाइन वीडियो ट्यूटोरियल में शामिल किया जा सकता है

आने वाले दिनों में नए केंद्रीय मोटर वाहन नियमों में ड्राइविंग लाइसेंस प्राप्त करने वालों के लिए सुरक्षा प्रमाणन पाठ्यक्रम। हालांकि, सरकार की ओर से अभी तक कोई आधिकारिक जानकारी नहीं दी गई है।